आज सभी देशवासी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मना रहे हैं। उनकी जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जा रहा  है। मानाने का सिलसिला सन 2021 से ऐसा किया जाने लगा। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी के पराक्रम को देखते हुए 23 जनवरी को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी।

हर साल 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई जाती है। नेताजी ने आजाद हिंद फौज की स्थापना की थी। आजादी की लड़ाई में नेताजी का अभूतपूर्व योगदान रहा। नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती को पराक्रम दिवस के तौर पर मनाया जाता है। साल 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दिन को पराक्रम दिवस के तौर पर मनाने का ऐलान किया था। नेताजी के पराक्रम को सम्‍मान और सराहने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया था। तभी से इसे पराक्रम दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा।

सुभाष चंद्र बोस का जन्‍म ओडिशा के कटक में 23 जनवरी 1897 में हुआ था। उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माता का नाम प्रभावती देवी था। नेताजी बेहद योग्‍य थे। उन्‍होंने 1920 में इंग्लैंड में सिविल सर्विस एग्‍जाम पास कर लिया था। इस परीक्षा में नेताजी का चौथा स्‍थान था। यह और बात है कि देश की आजादी के लिए उन्होंने पद त्याग कर आंदोलन में कूदने का फैसला लिया।

आजादी के लिए नेताजी का नजरिया बड़ा साफ था। उन्‍हें पता था कि यह थाली में परोसकर नहीं म‍िलेगी। इसकी देशवासियों को कीमत चुकानी पड़ेगी। इसी के चलते उन्‍होंने आजादी के आंदोलन से युवाओं को जोड़ा। ‘जय हिंद’, ‘तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा’, ‘चलो दिल्ली’ जैसे नारे देकर उनका जोश बढ़ाया।

2021 से पहले तक 23 जनवरी को सुभाष चंद्र बोस जयंती के नाम से मनाया जाता था। हालांकि, 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे लेकर एक अहम फैसला लिया। आजादी में नेताजी के योगदान के मद्देनजर पीएम मोदी ने इसे पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया। इसके बाद से हर साल नेताजी की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed